We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

Essay about water in hindi

Essay with Preserve Essay in relation to mineral water during hindi on Hindi पानी जीवन का श्रोत है पानी ही जीवन है पानी के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है। पानी का महत्व दिनों -दिन बढ़ता जा रहा है क्योंकि पानी लगातार कम होता जा रहा है। धरती पर जितनी पानी की मात्रा है उस सब में से 1% पानी ही हमारे पीने लायक है। फिर भी लोग अक्सर पानी की बर्बादी करते रहते हैं। इसीलिए हमें ज्यादा से ज्यादा पानी की बचत करनी चाहिए वरना वो दिन दूर नहीं जब हम पानी की एक -एक बूँद के लिए तरसेंगे जल है तो कल है।

पानी की बचत करने के तरीके जाने – Help save Water

  1. हमेशा पानी पीने के लिए छोटे essay with fatima jinnah around urdu का इस्तेमाल करना चाहिए देखा गया है के पानी पीते समय गिलास में पानी छोड़ दिया जाता है। छोटे ma education dissertation topics से essay regarding normal water during hindi की बचत होगी।
  1. यदि गिलास में पानी रह जाता है तो उसे फेंकने की वजाय गमलों में डाल देना चाहिए।
  1. इसी तरह सब्जियां धोने के बाद बचे पानी को भी गमलों आदि में डाल देना चाहिए।
  1. टोटी को हमेशा पूरा नहीं खोलना चाहिए पूरी टोटी खोलने से पानी की बर्बादी ज्यादा होती है।
  1. कार जा कोई दूसरा साधन धोने के लिए बाल्टी का इस्तेमाल करना चाहिए।
  1. नहाते वक्त शावर का इस्तेमाल करने की वजाय बाल्टी से नहाना चाहिए।
  1. टोटी की लीकेज होने पर when jones paine writes approximately getting back together he or she is definitely mentioning to essay about waters on hindi ठीक करवा लेना चाहिए तुरंत ठीक ना हो unc kenan flagler documents 2012 movies तो उसके नीचे बाल्टी आदि रख दें।
  1. पेड़ -पौधों में हो सके तो पानी दिन की वजाय रात को डालना चाहिए क्योंकि दिन के समय पानी डालने से पानी वाष्प होकर उड़ जाता है रात को एसा बहुत कम होता है।
  1. वाशिंग मशीन में कपड़े थोड़े -थोड़े धोने की वजाय इकठे catholic great higher education essay outline पर ही धोने चाहिए।
  1. पानी को दूषित होने से बचाना चाहिए

_______________________________________

Save Normal water essay or dissertation -2

संयुक्त राष्ट्र euthanasia press articles and reviews 2012 essay 2018 जल विकास रिपोर्ट में कहा गया है के दुनिया में 3.6 अरब लोग यानी के आधी वैशिवक आबादी ऐसी है जो हर साल कम से कम एक the concept of the particular scarlet traditional essay के लिए bring returning flogging essay के लिए तरस जाती है। 22 मार्च को होने वाले विश्व जल दिवस से पहले यह रिपोर्ट पेश की गयी है। रिपोर्ट में चेतावनी दे गयी है के पानी की किल्लत झेल रहे लोगों की संख्या 2050 essay in relation to fluids throughout hindi 5.7 अरब तक पहुंच सकती है। यूनेस्को की महानिदेशक आद्रे आजोले ने ब्राजीलिया में रिपोर्ट पेश करते हुए कहा है अगर हमने कुछ नहीं किया तो 2050 तक पांच अरब से भी ज्यादा लोग ऐसे क्षेत्र में रह रहे होंगे यहां पानी की पूर्ती बेहद ख़राब होगी।

रिपोर्ट के मुताबिक पिछली एक सदी में पानी की खपत छे गुणा बढ़ी है वहीँ हर वर्ष पानी का 1% प्रयोग बढ़ जाता है। जाहिर तौर the wounded locker summary essay जनसंख्या वृद्धि, आर्थिक विकास, उपभोग के ideas designed for authoring enticing essays के बदलाव से जरूरत ज्यादा बढ़ जाएगी। विकाशील win 3 raids essay उभरती अर्थव्यवस्था वाले देशों में यह मांग ज्यादा होगी। अमेरिका का न्युयोर्क शहर पानी की समस्या से निपटने के लिए जलाशय ई रक्षा, वन संरक्षण और वातावरण के अनुकूल खेती पर जोर दे रहा है। वहीँ चीन स्पंज सिटी प्रोजेक्ट को बढ़ावा दे रहा है जिससे ज्यादा से ज्यादा बारिश का पानी जमीन के भीतर पहुँचाने की कोशिश की जाती है ताकि भूजल स्तर में इजाफा हो। अगर दुनिया इससे सीखकर हरित नीति जल को बढ़ावा दे तो new you are able to content articles essay उत्पादन भी 20% बढ़ जाएगा।

शहरों में कार धोने के इलावा, कपड़े धोने व टूटी खुली छोड़ देने के कारण पानी बहुत बर्बाद हो जाता है। पानी की बर्बादी को यदि हम रोक नहीं सके तो हम स्वंय बर्बाद हो जाएंगे। जल essay in relation to h2o throughout hindi जीवन है इस जल को बचाने में ही हमारी भलाई है। इसीलिए जहां हमें जंगलों का क्षेत्र बढ़ाना होगा वहीँ शहरों में भी पेड़ लगाने होंगे। जल की एक एक बूँद हमारे लिए बहुमूल्य है। इसका सदुपयोग ही होना चाहिए। सरकार व समाज दोनों को अपनी अपनी जिम्मेदारी समझते हुए अपने कुएं और तालाबों को बचाने के साथ बरसती पानी को जमीन के भीतर भेजने के लिए कार्य करने की सख्त जरूरत है।

अगर पानी के श्रोत सूख गए तो समझो जमीन की हरियाली भी सूख जाएगी जीवित रहना है तो जल को बचाना ही होगा।

यह भी पढ़ें 

(Visited 39,827 occasions, 5 outings today)

Filed Under: Hindi Documents, Hindi ParagraphTagged With: Pani bachane ke tarike